Aakhiri Note -2

If you like Hindi short stories that pull your heart-string, please do read this….one of the best ones I’ve read in a long time!

Anonymous me

“एक ,दो,तीन.…………सात,आठ। ” मन ही मन बबलू ने टेबल की गिनती की।

बारिश थम चुकी थी किन्तु गीली मिट्टी की सौंधी सुगंध अभी भी हवा में रची बसी थी। बबलू और सरजू मेंगाराम के रेस्त्रां के एक कोने में अपनी उपस्थिति लगाये खड़े थे। तय हुआ की चार टेबल बबलू साफ करेगा और चार सरजू।

“दो रुपये के हिसाब से हुए सोलह रुपये, ” बबलू ने मन ही मन हिसाब लगाया , “……………माने की आठ सरजू के और आठ मेरे। दो रुपये फिर भी कम हैं। ”

चिंता की लकीरो ने नन्हे माथे पे डेरा डाल दिया। बाकी के दो रुपये कहा से लायेगा। जब ईश्वर मुसीबत देता है तो हल निकालने के लिए  बुद्धी भी दे देता है। मन ही मन समाधान निकाला की दो रुपये सरजू से उधार ले लेगा।  क्या दो रुपये भी न दे सकेगा , आख़िर दोस्त है मेरा। शायद ही आज से पहले सरजू को देख कर…

View original post 1,184 more words

Advertisements

3 thoughts on “Aakhiri Note -2

  1. Dearest Sri…
    I hardly read Hindi stories. After years today I read this one only because you shared it.. It’s all because I know you will share the best ones.. And THANK YOU… 🙂
    Thank you for sharing this one.. It took me a bit long to read, but gradually I attained my pace back in reading Hindi & I sank in the words… You are right.. It pulled my heart string.. So many touching instances.. words.. sentences… Really no words to praise her..She is beyond that.. Thank You Sri… 🙂
    All love.. ❤

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s